Cricket

इशान किशन के बाद 300 रन बनाने वाले इस खिलाड़ी को भी चाहिए मौका, ट्विटर पर छलका दर्द

भारत के लिए टेस्ट में तिहरा शतक जड़ने वाले करुण नायर लंबे समय से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर हैं. उन्होंने नवंबर 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और दिसंबर 2016 में चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ नाबाद 303 रन बनाए। इस मैच में टीम इंडिया ने 75 रन से जीत दर्ज की और नायर को प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया।

इसके बाद करुण नायर क्रिकेट जगत में सुर्खियों में रहे, लेकिन मार्च 2017 में आखिरी बार टेस्ट खेलने के बाद वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से गायब हो गए. इस बीच, बांग्लादेश के खिलाफ मोहम्मद शमी को बाहर किए जाने और उनकी जगह जयदेव उनादकट को शामिल किए जाने के बाद नायर के वापसी करने की उम्मीद है।

करुण नायर को भी कर्नाटक रणजी टीम में जगह नहीं मिली है, जिसके बाद उन्होंने शनिवार को एक भावुक ट्वीट किया. नायर ने ट्वीट किया, ‘प्रिय क्रिकेट कृपया मुझे एक और मौका दें।’ उनके इस ट्वीट ने उनके फैंस और चाहने वालों को काफी इमोशनल कर दिया.

सोशल मीडिया पर उनका यह ट्वीट देखते ही देखते वायरल हो गया। इसके बाद से सोशल मीडिया पर लोग उनके बारे में खूब बातें कर रहे हैं।

लगातार नजरअंदाज किए जाने पर नायर का दर्द छलका

बता दें कि नायर को आखिरी बार महाराजा टी20 ट्रॉफी में मैसूर वॉरियर्स के लिए खेलते हुए देखा गया था. उन्होंने 12 मैचों में 23.36 की औसत और 146.02 की स्ट्राइक रेट से 257 रन बनाए। उन्होंने टूर्नामेंट में हुबली टाइगर्स के खिलाफ नाबाद 91 रन बनाए थे। उनके प्रथम श्रेणी रिकॉर्ड की बात करें तो नायर ने 85 मैचों में 48.94 की औसत से 5922 रन बनाए हैं. इस दौरान उन्होंने 15 शतक और 27 अर्धशतक भी लगाए हैं।

भारत के लिए तिहरा शतक लगाने के बावजूद नायर ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में केवल 6 टेस्ट और दो वनडे खेले हैं। उन्होंने 6 टेस्ट में 62.33 की औसत से 374 रन बनाए। इसमें एक शतक और एक अर्धशतक शामिल है. वहीं, दो वनडे में उनके नाम 46 रन हैं। नायर को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खराब प्रदर्शन के बाद 2017 में भारतीय टीम से बाहर कर दिया गया था।

नायर को यह समझ में नहीं आया कि उन्हें अचानक टीम से बाहर क्यों कर दिया गया, क्योंकि कुछ खिलाड़ियों को कुछ पारियों में फ्लॉप होने के बाद भी बार-बार मौके मिलते हैं, लेकिन नायर के साथ ऐसा नहीं था। हालांकि इसके बाद नायर कर्नाटक टीम के अहम सदस्य बने रहे. लेकिन उन्हें सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी और विजय हजारे ट्रॉफी के लिए टीम में नहीं चुना गया और अब उन्हें पहले दो रणजी ट्रॉफी मैचों के लिए टीम में जगह नहीं दी गई है. ऐसे में लगातार नजरअंदाज किए जाने के बाद नायर का दर्द छलक उठा है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button