Cricket

टीम इंडिया में मौका नहीं मिलने पर बोर्ड पर बरसे मुरली विजय, बोले- ’30 के पार होते ही 80 साल के माने जाते हैं’

भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने शुक्रवार देर रात न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आगामी श्रृंखला के लिए टीम की घोषणा की। टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज, फिर टी20 सीरीज खेलनी है। और ऑस्ट्रेलिया के साथ टेस्ट सीरीज खेली जानी है। अनुभवी मुरली विजय को एक बार फिर टीम में मौका नहीं मिला, जिसके बाद उन्होंने बोर्ड पर निशाना साधा है.

तमिलनाडु के वर्तमान क्रिकेटर ने कुछ समय के लिए अपने क्रिकेट करियर को जारी रखने की इच्छा व्यक्त की है, लेकिन अब विदेशों में अवसरों की तलाश करेंगे।

क्रिकेटर की ये बात बोर्ड को बुरी लग सकती है

मुरली विजय ने एक शो के दौरान पूर्व क्रिकेटर डब्ल्यूवी रमन से बातचीत में कहा, भारतीय बोर्ड से मेरा जुड़ाव लगभग खत्म हो गया है। मैं विदेश में अवसर देखना चाहता हूं। मैं सिर्फ प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलना चाहता हूं। भारत में एक धारणा है कि क्रिकेटर 30 साल के होते ही उपेक्षित हो जाते हैं। हम 80 साल के माने जाते हैं।

विजय ने आगे कहा, मैं किसी तरह के विवाद में नहीं पड़ना चाहता। मीडिया को भी इसे दूसरी तरह से देखना चाहिए। मुझे लगता है कि मैं अब भी पहले की तरह बल्लेबाजी कर सकता हूं। लेकिन बदकिस्मती कहूं या खुशनसीब यहां मौके कम हैं। ऐसे में अवसरों को बाहर देखना होगा।

इस दिग्गज बल्लेबाज ने कहा कि मैं ईमानदारी से एक व्यक्ति के रूप में महसूस करता हूं, आप केवल वही कर सकते हैं जो आपके हाथ में है। आप बेकाबू को नियंत्रित नहीं कर सकते। बीती ताहि बिसार दे।

आखिरी बार 2018 में खेला था

मुरली विजय ने भारत के लिए 61 टेस्ट में 3928 रन और 17 वनडे में 339 रन बनाए हैं। वह आखिरी बार 2018 में पर्थ में ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर भारत के लिए खेले थे। बाद में उन्हें खराब फॉर्म के कारण टीम से बाहर कर दिया गया और वह वापसी नहीं कर सके।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button